Showing posts with label Computer Basic. Show all posts
Showing posts with label Computer Basic. Show all posts

Wednesday, 17 January 2018

Microsoft power point

यह program microsoft office का एक भाग है! इसके अन्दर आप presentation files तेयार कर सकते है! व दूसरी को अपने विचार, भावनाए इच्छाये भी presentation के रूप में व्यक्त कर सकते हो यह program अमेरिका की कम्पनी  microsoft corporation ने बनाया था इसके अन्दर आप Blank presentation, Design templates, business plan, company meeting, marketing plan, training, sales plan आदि presentation तेयार कर सकते है!

Presentation-
presentation किसी को भी अपने विचार, भावनाये, इच्छाये व्यक्त करने का एक साधन है! आप presentation के अन्दर किसी भी व्यक्ति अथवा कम्पनी के बारे में details दे सकते है! इसके अन्दर slides प्रयोग की जाती है!

Slide- slide किसी भी presentation के वे page होते है जिनके ऊपर आप message को input कर सकते है जब आप program को open करते है तो आपको power-point program की window में title bar, menu bar, standard tool bar, formatting tool bar, scroll bar drawing tool bar, status bar और slide दिखाई देती है!

Title bar- यह program की window में सबसे ऊपर की तरफ होती है! इसके ऊपर program का नाम  लिखा रहता है और minimize, maximize, और close button होते है!

Menu bar-
यह title bar से निचे की तरफ होती है इसके अन्दर file menu, edit menu, view menu, insert menu, format menu, tools menu, slide show menu, window menu, help menu नामक menu पाए जाते है!

Standard tool bar-
यह tool bar, menu bar, से निचे की तरफ पायी जाती है! इसमे new, open, save, e-mail, print, print preview, spelling, cut, copy, paste, undo, Repeat, Hyperlink, chart, zoom आदि tools होते है जिनको चुनकर आप प्रयोग कर सकते है!

Formatting tool bar-
यह tool bar, standard tool bar से निचे की तरफ होती है इसमे font, font size, Bold, italic, underline, align left, right center आदि tools होते है जिनको चुनकर आप प्रयोग कर सकते है!

Scroll bar-
यह आपके program की window के दायी और और निचे की तरफ पायी जाती है! दायी और की scroll bar को vertical scroll bar और निचे की scroll bar को horizontal scroll bar कहते है इनका प्रयोग slide को बायीं-दायी और तथा ऊपर-निचे की और करने के लिए किया जाता है!

Drawing tool bar- यह tool bar, slide से निचे की तरफ पायी जाती है इसमे draw, select object, free rotate, fill text आदि tools होते है जिनको चुनकर आप अपनी slide के अन्दर प्रयोग कर सकते है!

Status bar-
यह आपके program की window में सबसे निचे की तरफ होती है यह आपके program के अन्दर प्रयोग किये गये निर्देशों की जानकारी प्रदान करती है!

Menu bar के option

(1)- File menu-इस menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

New-इस option पर click करने से आप इच्छानुसार blank presentation अथवा Design template को चुनकर इच्छानुसार slide layout को चुनकर new presentation बनाना शुरू करते है!

Open- इस option के माध्यम से आप पहले से save की गयी presentation file को open कर सकते है!

Close- इस option के माध्यम से आप open की गयी file को close कर सकते है!

Save- इस option पर click करने से आप बनाई गयी presentation file को save कर सकते है!

Save as- इस option पर click करने से आप save की गयी file को दुसरे नाम से भी save कर सकते है!

Save as web page-
इस option पर click करने से आप file को internet पर web page के रूप में प्रयोग करने के लिए save कर सकते है!

Web page preview-
इस option के माध्यम से आप current file को web page बनाने के लिए उसका preview देख सकते है!

Page setup-
इस option पर click करने से आप अपनी file को print करने से पूर्व उसका page, marzin आदि set कर सकते है!

Print preview-
इस option पर click करने से आप current file को print करने से पूर्व उसका print preview देख सकते है!

Print-
इस option पर click करते ही आपकी file print हो जाती है!

Send to- इस option के माध्यम से आप current file को E-mail द्वारा किसी परिचित को send कर सकते है!

Properties-
इस option पर click करने से आप current file की properties को set/change कर सकते है!

Exit-
इस option के माध्यम से आप Ms-power point program को बन्द कर सकते है!

(2)-Edit menu-
इस menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है-

Undo-
इस option के माध्यम से आप current file के अन्दर प्रयोग किये गये commands को undo कर सकते है!

Repeat- इस option की सहायता से आप undo किये गये commands को repeat कर सकते है!

Cut-
इस option के माध्यम से आप selected portion को cut कर सकते है!

Copy- इस option के द्वारा आप selected portion को copy कर सकते है!

Office clipboard- इस option के माध्यम से आप office clipboard को Show/Hide कर सकते है!

Paste-
इस option के माध्यम से आप copy अथवा cut किये गये portion को इच्छानुसार paste कर सकते है!

Paste special- इस option पर click करने से आप cut अथवा copy किये गये portion को विशेष प्रकार से paste कर सकते है!

Paste as hyperlink- इस option के माध्यम से आप अन्य files को Hyperlink के रूप में current file के अन्दर paste कर सकते है!

Clear- इस option के माध्यम से आप selected portion के अन्दर text, comments, graphics, आदि को clear कर सकते है!

Select all-
इस option के द्वारा पूरी file select हो जाती है!

Duplicate- इस option पर click करने से आप current slide की duplicate slide तेयार कर सकते है!

Delete slide-
इस option के माध्यम से आप current slide को delete कर सकते है!

Find- इस option पर click करने से आप current slide के अन्दर कोई word या Letter find कर सकते है!

Replace- इस option के माध्यम से आप current slide के अन्दर किसी word या Letter के स्थान पर अन्य word या Letter को replace कर सकते है!

(3)- View menu-इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Normal- इस option पर click करने से आप current slide को normal view में देख सकते है!

Slide sorter- इस option पर click करने से आप अपनी presentation file की सभी slides को देख सकते है तथा किसी भी slide को चुनकर प्रयोग कर सकते है!

Slide show-
इस option के माध्यम से आप current slide को full screen पर show कर सकते है!

Notes page-
इस option पर click करते ही आपकी slide के निचे notes page active हो जाता है जिसमे आप slide से सम्बन्धित notes को input कर सकते है!

Colour/grayscale-
इस option के माध्यम से आप current slide को colour और black and white में देख सकते है!


Tool bars-
इस option पर click करने से आप standard formatting, drawing, outline, picture, word art आदि tool bars को show/hide कर सकते है!

Ruler- इस option के माध्यम से आप ruler bar को show/hide कर सकते है!

Header and footer-
इस option के माध्यम से आप current slide के top और bottom पर special text को डाल सकते है!

Zoom-
इस option के माध्यम से आप current slide को 50%, 100%, 200%, 400%, व अन्य Size में देख सकते है!

(4)- Insert menu- इस menu के अन्दर निम्नलिखित option पाये जाते है-

New slide- इस option के माध्यम से आप अपनी presentation के लिए new slide को insert कर सकते है!

Duplicate slide- इस option पर click करने से आप current slide की duplicate slide तेयार कर सकते है!

Slide number-
इस option के माध्यम से आप slide के ऊपर number डाल सकते है!

Date and time- इस option के माध्यम से आप current slide के अन्दर date and time को insert कर सकते है!

Comments-
इस option पर click करने से आप current slide इ अन्दर comment को insert कर सकते है तथा उसको show/hide भी कर है!

Symbol- इस option के माध्यम से आप current slide के अन्दर विभिन्न प्रकार के symbols को insert कर सकते है!

Slide from files- इस option पर click करने से आप current slide के अन्दर अन्य files को भी insert कर सकते है!

Picture- इस option पर click करने से आप current slide के अन्दर clipart से विभिन्न प्रकार के cartoon को insert कर सकते है तथा यहाँ से आप word art, photo आदि को insert कर सकते है तथा उस पर विभिन्न प्रकार के effects भी डाल सकते है!

Diagram- इस option पर click करने से आप current slide के अन्दर कोई भी diagram चुनकर insert कर सकते है!

Text box- इस option के माध्यम से आप अपनी slide के अन्दर text box को insert कर सकते है तथा text box में message को input कर सकते है!

Movies and sounds- इस option पर click करने से आप current slide के अन्दर movies और songs को insert कर सकते है!

Chart- इस option पर click करते ही आपके सामने chart के style open होते है आप यहाँ से chart को अपनी slide के अन्दर insert कर सकते है!

Table- इस option के माध्यम से आप current slide के अन्दर rows और columns की इच्छानुसार संख्या चुनकर table create कर सकते है!

Object- इस option पर click करने से आप current slide के अन्दर photo shop, image, bitmap image, ms-excel worksheet, ms-word document, ms-power point presentation आदि object को insert कर सकते है!

Hyperlink- इस option के माध्यम से आप current slide के अन्दर दुसरे program की files को hyperlink के रूप में insert कर सकते है तथा यहाँ से उन files को open कर सकते है!

(5)-Format menu-इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Font- इस option पर click करने से आप selected text के लिए font, font style, font size, font colour, underline style, character spacing और text effectको change कर सकते है!

Bullets and Numbering- इस option की सहायता से आप प्रत्येक Line के सामने विभिन्न प्रकार की bullets औरNumbering को add कर सकते है!

Alignment- इस option के माध्यम से आप Alignment को Left, Right व center कर सकते है!


Change case- इस option की सहायता से आप current slide के अन्दर selected text को sentence case, Lower case, upper case, Title case में change कर सकते है!

Slide design- इस option की सहायता से आप current slide का design change कर सकते है!

Slide Layout-
इस option की सहायता से आप current slide का Layout change कर सकते है!

Back ground- इस option के माध्यम से आप current slide का back ground change कर सकते है!
 

(6)- Tools menu-इस menu के अन्दर निम्नलिखित option पाये जाते है-

Spelling- इस option पर click करने से आप selected word या sentence की spelling को check कर सकते है तथा उसे change भी कर सकते है!

Research- इस option पर click करने से आप किसी भी शब्द को शब्दकोष में search कर सकते है! और किसी भी चुनी गयी भाषा में उसकी translation कर सकते है!

Language- इस option के माध्यम से आप कोई भी भाषा select करके प्रयोग कर सकते है!

Shared work space- इस option पर click करने से आप current slide को online दुसरो के साथ shore कर सकते है!

Macro-इस option से हम फार्मूला रिकॉर्ड करके उसे यूज़ कर सकते है|

Auto correct option-इस option से गलत लिखा हुआ सही कर सकते है|

Customize- इस option के माध्यम से आप new tool bar को create कर सकते है!

(7)- Slide show menu-
इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाये जाते है-
View show, Setup show, Rehears timings, Action buttons, Animation scheme, Custom animation, Slide transition, Hide slide, Custom show.

(8)-Window menu-इस menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

New window- इस option पर click करने से आप current file के लिए new window को add कर सकते है!

Arrange all- इस option के माध्यम से आप open की गयी सभी windows को arrange कर सकते है व किसी भी window को चुनकर प्रयोग कर सकते है!

Cascade- इस option के माध्यम से आप open की गयी सभी windows को cascade रूप में देख सकते है तथा किसी भी window को चुनकर प्रयोग कर सकते है!

(9)-Help menu- इस menu के अन्दर निम्नलिखित option पाये जाते है!

Microsoft power point help- इस option के माध्यम से आप ms-power point नामक program के बारे में help topic की जानकारी प्राप्त कर सकते है!

Show/Hide the office assistant- इस option के माध्यम से आप office assistant को show/Hide कर सकते है!

About ms-power point- इस option के माध्यम से आप ms-power point नामक program के version, licence user program developed team और product ID के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है!         

Microsoft excel

यह program Microsoft office का एक महत्वपूर्ण भाग है! यह Tabulating work करने किसी भी प्रकार की calculation करने chart तेयार करने के लिए प्रयोग किया जाता है! यह program अमेरिका की कंपनी Microsoft Carporation ने बनाया था इसके अन्दर आप Mark sheet, bill, List, Report आदि तेयार कर सकते है!
जब आप program को open करते है तो आपको ms-Excel program की window में Title bar, standard tool bar, formatting tool bar, formula bar, work book, work sheet, scroll bar, menu bar, Drawing tool bar, sheet tab, status barआदि दिखाई देती है!

Spreadsheet- यह एक ऐसा computer program है जिसके अन्दर आप Accounting records और economical statements आसानी से तेयार कर सकते है Spreadsheet मुख्यतः Rows और columns से बना एक जाल होता है इसे worksheet भी कहा जाता है यह मुख्यतः technical calculation, data entry, और संखिय्की के छेत्र में प्रयोग किये आते है आज Spreadsheet को Excel के नाम से जाना जाता है!

Work book- यह Excel file होती है इसमे कई सारी worksheet होती है program open करने पर आपके सामने book-fast नाम की workbook खुल जाती है इसका नाम भी आप change कर सकते है इसके अन्दर आप अपना document तेयार कर सकते है!

Work sheet- यह program के बिच में rows और columns से बनी हुई जालनुमा sheet होती है जिसे sheet 1, sheet 2, sheet 3, के नाम से जाना जाता है प्रत्येक worksheet के अन्दर 65536 Rows और 256 Columns होते है Rows worksheet के बायीं और 1 से 65536 तक होती है और columns worksheet के ऊपर Aसे 1v तक होते है Current worksheet को Active worksheet कहा जाता है Row और columns से बने box को cell कहा जाता है!

Sheet tab-
यह worksheet से निचे horizontal Scroll bar के पास होती है! इसके ऊपर sheet 1, sheet 2, sheet 3, लिखा रहता है! आप यह से कोई भी sheet चुनकर प्रयोग कर सकते है!

Title bar- यह ms-Excel program की windowमें सबसे ऊपर की तरफ होती है इस पर program का नाम लिखा रहता है और minimize, maximize, और close button होते है!

Menu bar-
यह Title bar से निचे की तरफ होती है इसमे मुख्यतः File menu, Edit menu, View menu, insert menu, Format menu, Tools menu window menu और Help menu होते है!

Standard tool bar- यह tool bar menu bar से निचे की तरफ होती है इसमे new, open, save, e-mail, print, print preview, spelling, cut, copy, paste, undo, redo, hyperlink, auto sum, Sort ascending, sort descending, chart Zoom आदि tools होते है जिनको चुनकर आप प्रयोग कर सकते है!

Formatting tool bar- यह tool bar, standard tool bar से निचे की तरफ होती है इसमे Font, font size, Bold, Italic, underline, Align left, Right, center, Currency style, percent style Borders, File colour, Text colour आदि  tools होते है जिनको चुनकर आप प्रयोग कर सकते है!

Formula bar-
यह formatting tool bar से निचे की तरफ होती है यह current sheet के अन्दर बनाये गये document में प्रयोग किये गये formulas को show करती है!

Scroll bar- यह आपके program के अन्दर worksheet के दायी और vertical scroll bar के रूप में तथा worksheet के निचे की और Horizontal scroll bar के रूप में होती है! scroll bar का प्रयोग document के page को ऊपर निचे करने के लिए किया जाता है!

Drawing tool bar-
यह tool bar worksheet से निचे की तरफ होती है इसमे Draw, select object, Free rotate, Auto shapes, Lines, arrow word art, picture, Fill text आदि tool होते है जिसको चुनकर आप अपने document में प्रयोग कर सकते है!

Status bar-
यह program की window में सबसे निचे की तरफ़ होती है यह program के अन्दर प्रयोग किये गये निर्देशों की जानकारी प्रदान करती है!


Menu bar के option

(1)- File menu-इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

New-इस option पर click करने से आप new workbook के अन्दर document बनाना आरम्भ करते है!

Open- इस option के द्वारा आप save किये गये document को open कर सकते है!

Close- इस option के द्वारा आप open किये गये document को close कर सकते है!

Save- इस option की सहायता से आप current document को save कर सकते है!

Save as-
इस option की सहायता से आप save की गयी document file को दुसरे नाम से भी save कर सकते है!

Save as webpage- इस option के द्वारा आप current document को webpage बनाने के लिए save कर सकते है!

Web page preview- इस option के द्वारा आप current document को web page बनाने के लिए उसका preview देख सकते है!

Page setup- इस option की सहायता से आप current document के लिए page margin और paper setting कर सकते है!

Print preview- इस option की सहायता से आप current document को print करने से पहले उसका print preview देख सकते है!

Print- इस option से आप current document को print कर सकते है!

Send to- इस option की सहायता से आप current document को E-mail के माध्यम से किसी परिचित को send कर सकते है!

Properties-
इस option पर click करने से आप current document की properties को change/set कर सकते है!

Exit- इस option पर click करने से आप ms-excel program को बन्द कर सकते है

(2)-Edit menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Undo- इस option के माध्यम से आप current document के अन्दर प्रयोग किये गये commands को undo कर सकते है!

Repeat- इस option की सहायता से आप undo किये गये command को Repeat कर सकते है!

Cut- इस option के द्वारा आप selected portion को cut कर सकते है!

Copy- इस option के द्वारा आप selected portion की copy कर सकते है!

Paste- इस option की सहायता से आप cut अथवा copy किये गये portion को इच्छानुसार paste कर सकते है!

Paste special-
इस option के द्वारा आप cut अथवा copy किये गये portion को विशेष प्रकार से paste कर सकते है!

Paste as hyperlink- इस option की सहायता से आप अन्य files को hyperlink के रूप में current document के अन्दर paste कर सकते है!

File- इस option की सहायता से आप selected cell के अन्दर type किये गये matter को fill कर सकते है!

Clear-
इस option पर click करने से आप selected area में all text, comments, contents को clear कर सकते है!

Delete-
इस option की सहायता से आप selected row, column और cell को delete कर सकते है!

Delete sheet- इस option की सहायता से आप current sheet को delete कर सकते है!

Move or copy sheet-
इस option की सहायता से आप current sheet की copy करके दूसरी sheet तेयार कर सकते है!

Find- इस option के द्वारा आप current document के अन्दर किसी word अथवा Letter को Find कर सकते है!

Replace-
इस option की सहायता से आप किसी word अथवा Letter के स्थान पर अन्य word अथवा Letter को Replace कर सकते है!

(3)-View menu-
इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Normal- इस option पर click करने से आप current document को Normal page में देख सकते है!

Page break preview-
इस option के द्वारा आप current document के page break कर सकते है!

Tool bars- इस option पर click करने से आप standard, formatting, Auto text, Drawing, picture, word art, data base, reviewing आदि tool bars को Show और Hide कर सकते है!

Formula bar-
इस option पर click करने से आप formula bar को show और hide कर सकते है!

Status bar- इस option के द्वारा आप status bar को show और hide कर सकते है!

Header and footer- इस option की सहायता से आप current page के Top और bottom में विशेष text को type कर सकते है तथा प्रत्येक page पर showकर सकते है!

Full screen- इस option पर click करने से आप current document को full screen में देख सकते है!

Zoom-
इस option के द्वारा आप current document को 200%, 100%, 75%, 50%, 25%, आदि size में देख सकते है!

(4)-Insert menu-इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Cells-
इस option पर click करने से आप current sheet के अन्दर cell को insert कर सकते है!

Rows- इस option पर click करने से आप current sheet के अन्दर rows को insert कर सकते है!

Columns- इस option के द्वारा आप current sheet के अन्दर column को insert कर सकते है!

Work sheet- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर new work sheet को insert कर सकते है!

Chart- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर chart को insert कर सकते है!

Page break- इस option के द्वारा आप current page को break कर सकते है!

Comment-
इस option पर click करने से आप active cell के अन्दर new comment को insert कर सकते है तथा show और hide भी कर सकते है!

Picture- इस option पर click करने से आप current sheet के अन्दर clipart से विभिन्न प्रकार के cartoons को insert कर सकते है! यहाँ से आप word art और photo file को भी अपने document में insert कर सकते है तथा picture  पर विभिन्न प्रकार के effects भी डाल सकते है!

Object-
इस option पर click करने से आप current document के अन्दर photo shop image, bitmap image, ms-excel, worksheet, ms-word document, ms-power point presentation आदि objects को insert कर सकते है!

Hyperlink- इस option की सहायता से आप current document के अन्दर दुसरे program की files को open करने के लिए उनको hyperlink के रूप में insert कर सकते है! यहाँ से आप उन files को open कर सकते है!

(5)-Format Menu-
इस menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Cells-इस option पर click करने से आप current cell के लिए Number, Alignment, font, border, pattern, Protection आदि प्रयोग कर सकते है!

Row-
इस option पर click करने से आप current row की height को change कर सकते है तथा row को Hide/ unhide भी कर सकते है!

Column-
इस option पर click करने से आप current column की width को change कर सकते है तथा column को Hide/unhide भी कर सकते है!

Work sheet- इस option पर click करने से आप current work sheet का नाम change कर सकते है work sheet की Back ground को change कर सकते है तथा work sheet को Hide/ unhide भी कर सकते है!
 

Auto format- इस option पर click करने से आप selected portion के लिए new format कर सकते है! इससे आपका data चुने गये format में change हो जाता है!

Style- इस option पर click करने से आप selected portion के लिए comma, currency, normal, percent आदि style चुन सकते है तथा साथ ही selected portion के लिए Number alignment font, Border, protection आदि चुन सकते है!
 

(6)- Tools menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है-

Spelling- इस option पर click करने से आप selected word या sentence की spelling को check कर सकते है! तथा उसे change भी कर सकते है!

Research- इस option पर click करने से आप किसी शब्द की Translation चुनी भाषा में कर सकते है! तथा dictionary में कोई भी word को search कर सकते है!

Shared work space- इस option के माध्यम से आप अपने document को online दुसरो के साथ shore कर सकते है!

Shore work book- इस option के माध्यम से आप current workbook को online दुसरो के साथ shore कर सकते है!

Protection- इस option पर click करने से आप current sheet, work book, को protect कर सकते है!

Customize-
इस option के माध्यम से आप new tool bar create कर सकते है!

Auto correct option-
इस option से गलत लिखा हुआ सही कर सकते है|

Macro-इस option से हम फार्मूला रिकॉर्ड करके उसे यूज़ कर सकते है|


Formulas- इस option के माध्यम से आप जोड़, घटाना, गुणा, भाग, max, min,average आदि निकाल सकते है| 
 
(7)-Data menu-इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Sort- इस option पर click करने से आप selected text को Ascending order और Descending order में change कर सकते है!

Filter- इस option पर click करने से आप selected area के अन्दर के data को auto filter कर सकते है तथा droup down button से उसके बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है!

(8)-Window menu-इस menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

New window- इस option पर click करने से आप current document के लिए new window को add कर सकते है!

Arrange-
इस option के माध्यम से आप open की गयी सभी window को arrange कर सकते है!

Compare slide by slide- इस option के माध्यम से आप open की गयी सभी windows के अन्दर आप data तेयार कर सकते है!

Hide-
इस option पर click करने से आप current चुनी गयी window को hide कर सकते है!

Unhide- इस option के माध्यम से आप hide की गयी windows को unhide कर सकते है!

Split-
इस option के माध्यम से आप current window को split कर सकते है

(9)- Help menu-
इस menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है-

Microsoft Excel Help-
इस option पर click करने से आप Microsoft excel program के बारे में help topic की जानकारी प्राप्त कर सकते है!

Show/hide the office assistant-
इस option के माध्यम से आप office assistant को show/Hide कर सकते है!

About Microsoft excel-
इस option के माध्यम से आप ms-excel program के version, licence user, program developed team और product ID के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है!


Microsoft word

यह program Microsoft office का एक भाग है यह typing work करने के लिए प्रयोग किया जाता है इसके अन्दर chart, tabulating work, Bio-data, Application, Letter, poem, essay और graphics work भी तेयार किया जा सकता है! यह  program Microsoft office का  word processing program है! यह अमेरिका की कंपनी Microsoft corporation ने बनाया था जब आप Ms-word program को open करते है तो आपको program की window में Title bar, menu bar, standard tool bar, formatting tool bar, scroll bar, ruler bar, work space, Drawing tool bar, picture tool bar, word art, tool bar और  Status bar दिखाई देती है!
Title bar-यह Ms-word program की window में सबसे ऊपर की तरफ होती है! इसके ऊपर program का नाम लिखा रहता है और Minimize, maximize और close button होते है!

Menu bar-यह Title bar से निचे की तरफ होती है! इसमे file menu, Edit menu, view menu, Insert menu, Format menu, Tools menu, Table menu, window menu और Help menuनामक option होते है!

Standard tool bar- यह tool bar, menu bar से निचे की तरफ होती है! इसके अन्दर New, open, save E-mail, print, cut copy, paste, undo, redo, insert hyperlink, Insert table, insert column Show/Hide, Zoom Document map, office Assistance आदि tools होते है जिनको चुनकर आप अपने  document में प्रयोग कर सकते है!

Formatting tool bar- यह tool bar, standard tool bar से निचे की तरफ होती है! इसके अन्दर Font style, font, font size, bold, italic, underline, Left alignment, center alignment, Right alignment, Numbering, Bullets, outline, Highlight, font colour आदि option होते है जिनको आप अपने document में प्रयोग कर सकते है!

Ruler bar- यह formatting tool bar से निचे और work space के बायीं और होती है! Ruler bar की सहायता से आप अपने document के अन्दर इच्छानुसार text के लिए लम्बाई और चोडाई को set कर सकते है!

Work space- यह MS-word program की window के बिच में खाली स्थान होता है जिसके अन्दर आप अपना document तेयार कर सकते है!

Scroll bar- यह Ms- word program की window के दायी और vertical scroll bar और work space के निचे की तरफ Horizontal scroll bar होती है! जो आपके document को ऊपर-निचे और बाये-दाये करने के लिए प्रयोग की जाती है!

Drawing tool bar- यह tool bar work space के निचे की तरफ होती है! इसमे Draw, select object, free rotate, auto shapes, Line, arrow आदि tools होते है जिनको आप अपने  document में प्रयोग कर सकते है!

Picture tool bar- यह tool bar drawing tool bar के साथ होती है! इसकी सहायता से आप अपने document के अन्दर picture को insert करके उसकी brightness, contrast, rotate word wrapping आदि change कर सकते है!

Word art tool bar- यह tool bar picture tool bar के साथ होती है! इसकी सहायता से आप अपने document के अन्दर design किया गया text insert करके उस पर तरह तरह के प्रभाव डाल सकते है!

Status bar- यह Ms-word program की window में सबसे निचे की तरफ होती है! यह आपके program के अन्दर प्रयोग किये जाने वाले निर्देशों की जानकारी प्रदान करती है!

Menu bar के option

(1)-File menu-इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

New- इस option पर click करने के बाद आप कोई भी document type चुनकर new file बनाना शुरू करते है!

Open- इस option के द्वारा आप save की गयी document file को open करते है!

Close- इस option पर click करने के बाद आप current document को close कर सकते है!

Save- इस option के द्वारा आप तेयार किये गये current document को save कर सकते है!

Save as- इस option के द्वारा आप save की गयी file को दुसरे नाम से भी save कर सकते है!

Save as webpage- इस option पर click करने से आप current document को internet पर webpage की तरह प्रयोग करने के लिए save कर सकते है!

Search-इस option पर click करने से आप Ms-word program के अन्दर पहले से बनाये गये document को search कर सकते है!

Versions- इस option पर click करने के बाद आप current document के लिए version तेयार कर सकते है!

Web page preview- इस option के द्वारा आप current file को webpage की तरह internet पर प्रयोग करने से पूर्व उसकी preview देख सकते है!

Page setup-
इस option पर click करने से आप current document को print करने से पूर्व उसके लिए page set कर सकते है!

Print preview- इस option के द्वारा आप current document को print करने से पूर्व उसका print preview देख सकते है!

Print- इस option के द्वारा आप current document को print कर सकते है!

Send to- इस option पर click करने से आप current document को E-mail के माध्यम से किसी परिचित को send कर सकते है!

Properties- इस option पर click करने से आप current document की properties को change/set कर सकते है!

Exit-इस option पर click करने से Ms-word program बन्द हो जाता है!

(2)-Edit menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Undo-इस option पर click करने से आप current document के अन्दर प्रयोग किये गये command को undo कर सकते है!

Repeat-
इस option पर click करने से आप current document के अन्दर प्रयोग किये गये undo option को वापस ला सकते है!

Cut- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर selected portion को cut कर सकते है!

Copy- इस option के द्वारा आप current document के अन्दर selected portion की दूसरी copy तेयार कर सकते है!

Paste- इस option के द्वारा आप current document में cut अथवा copy किये गये portion को इच्छानुसार paste कर सकते है!

Paste special- इस option के द्वारा आप cut अथवा copy किये गये portion को अपने document के अन्दर विशेष रूप से paste कर सकते है!

Paste as hyperlink- इस option के द्वारा आप cut अथवा copy की गयी अन्य document file को current document के अन्दर hyperlink के रूप में इच्छानुसार paste कर सकते है ताकि उनको current document से ही open किया जा सके!

Clear- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर selected portion को clear कर सकते है!

Select all-
इस option पर click करने से आपकी पूरी file select हो जाती है!

Find- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर कोई word अथवा Letter को Find कर सकते है!

Replace- इस option के द्वारा आप current document के अन्दर किसी word अथवा Letter के स्थान पर दुसरे word अथवा Letter को Replace कर सकते है!

Go to- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर page number, Line number, Book mark, comments, section पर कार्य कर सकते है!

(3)-View menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाये जाते है!

Normal- इस option पर click करने से आप current document को Normal view में देख सकते है!

Web layout- इस option पर click करने से आप current document को web page के रूप में देख सकते है!

Print layout- इस option पर click करने से आप current document को print layout में देख सकते है यह आपके print preview option की तरह कार्य करता है!

Outline- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर किसी matter पर outline देख सकते है!

Tool bar- इस option पर click करने से आप Standard, Formatting, Auto text, clipboard, data base, drawing Frame, picture, Table reviewing आदि tool bars को show और hide कर सकते है!

Ruler- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर ruler bar को show और Hide कर सकते है!

Documents map-
इस option पर click करने से आप current document का map देख सकते है!

Header and Footer- इस option पर click करने से आप current document के प्रत्येक page के top और bottom में special text को type करके print करा सकते है! आप केवल एक बार text को page के Top और bottom में type करते है परन्तु वह सभी pages के ऊपर दिखाई देता है!

Full screen- इस option पर click करने से आप current document को full screen में देख सकते है!

Zoom- इस option पर click करने से आप current document को 200%, 100%, 75%, 50%, आदि Size में देख सकते है! आप यहाँ से current document को Large size और Normal size में भी देख सकते है!

(4)-Insert menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Break- इस option पर click करने से आप page break, column break, Text wrapping, Section break, Next page, odd page, even page आदि option चुनकर प्रयोग कर सकते है!

Page number-
इस option के द्वारा आप current document के प्रत्येक page के Top अथवा bottom में page number को add कर सकते है!

Date and time- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर date and time को insert कर सकते है!

Task pane- To Show/Hide the task pane

Auto text- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर पहले से लिखे गये text को insert कर सकते है!

Field- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर date & time, documents, document information, formulas, index & table, Links आदि Category के fields के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है!

Symbol- इस option की सहायता से आप current document के अन्दर विभिन्न प्रकार के symbols को insert कर सकते है!

Comments-
इस option की सहायता से आप current document के अन्दर इच्छानुसार comments को insert कर सकते है व delete कर सकते है तथा Show/Hide कर सकते है!

Foot notes- इस option की सहायता से आप current document के page के bottom पर कुछ notes type कर सकते है व उसको document में Show कर सकते है!

Caption- इस option की सहायता से आप current document के अन्दर selected object के लिए table1, table2, table3, figure1, figure2, figure3, का Label और 123  ABC आदि Numbering प्रयोग कर सकते है!

Cross reference- इस option के द्वारा आप selected document में Heading, book mark, Foot not, Table, Figure आदि reference type को above और below कर सकते है तथा उनके बारे में जानकारी ले सकते है!

Index and table-
इस option पर click करने से आप current page पर ली गयी Headings के बारे में entry तेयार कर सकते है और Language व columns को भी इच्छानुसार set कर सकते है!

Picture-
इस option पर click करने से आप current document के अन्दर clipart से विभिन्न प्रकार के cartoons को insert कर सकते है यहा से आप photo file, word art, chart आदि को भी अपने document में insert कर सकते है!

Text box- इस option पर click करने से आप work space के अन्दर text box को insert कर सकते है तथा text box के अन्दर text को भी Type कर सकते है!

Fine- इस option की सहायता से आप current document के अन्दर अन्य files को भी insert कर सकते है!

Object- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर photo shop image, bitmap image, Ms-excel worksheet, ms-power point presentation आदि object को insert कर सकते है!

Book mark- इस option पर click करने से आप selected area के लिए कोई नाम देकर book mark को add कर सकते है और show/ delete कर सकते है!

Hyperlink- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर इच्छानुसार Hyperlink को insert कर सकते है! आप यहाँ से कोई भी document open कर सकते है!

(5)- Format menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाये जाते है!

Font- इस option पर click करने से आप selected text के लिए Font, font style, Font size, Font colour, underline style, character spacing और text effect को change कर सकते है!

Paragraph- इस option की सहायता से आप paragraph को भिन्न तरीके से set कर सकते है आप alignment को Left, Right, center और Justified कर सकते है तथा Line spacing को भी set करके paragraph को Format कर सकते है!

Bullets and Numbering- इस option पर click करने से आप प्रत्येक Line के सामने विभिन्न प्रकार की Bullets और Numbering को add कर सकते है!

Borders and Shading-
इस option की सहायता से आप current text के चारो और विभिन्न style और colour में Borders लगा सकते है तथा text के साथ Shading भी विभिन्न colour और style में Show कर सकते है!

Columns- इस option की सहायता से आप current document के अन्दर इच्छानुसार columns लगा सकते है!

Tabs- इस option पर click करके आप Ruler bar पर  Alignment को Left, Right center चुनकर Tab position को set कर सकते है व भिन्न प्रकार से document तेयार कर सकते है!

Text direction- इस option पर click करने से आप text box में Type किये गये text की दशा में परिवर्तन कर सकते है!

Change case-
इस option की सहायता से आप current document के अन्दर selected text को sentence case, lower case, upper case, Title case में change कर सकते है!

Back ground-
इस option पर click करने से आप current page के back ground को colour full कर सकते है! back ground पर कोई picture लगा सकते है तथा विभिन्न प्रकार के file effect भी डाल सकते है!

Theme- इस option की सहायता से आप current page के लिए विभिन्न प्रकार की Theme चुन सकते है!

Frames- इस option की सहायता से आप current document के लिए frame को page के Left, Right Above और below में create कर सकते है तथा Frame Properties को भी add कर सकते है!

Drop cap- इस option की सहायता से आप paragraph के अन्दर पहले अक्षर के साथ changing कर सकते है!

Auto format- इस option की सहायता से आप current document के अन्दर selected letter के साथ लिखे गये text document, Letter, e-mail में Auto format कर सकते है!

Style- इस option की सहायता से आप selected area में current paragraph और character के लिए विभिन्न प्रकार के style को apply कर सकते है तथा delete भी कर सकते है!

(6)- Tools menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाये जाते है!

Spelling and grammar- इस option की सहायता से आप current text के words की spelling को ठीक कर सकते है तथा grammar के सहयोग से शब्दों को change कर सकते है!

Word count- इस option के द्वारा आप current document में प्रयोग किये गये page, words, Lines, paragraphs की संख्या के बारे में जान सकते है!

Protect document- इस option के द्वारा आप current document को password देकर protect कर सकते है!

Thesaurus-
इस option की सहायता से आप current document में selected word के लिए विलोम शब्द और पर्यायवाची शब्द को चुन सकते है!

Envelopes and labels-
इस option की सहायता से आप अपने Letter के लिए लिफाफे तेयार कर सकते है तथा Delivery address और Return address को भी लिफाफे के उपर show कर सकते है!

Letter wizard- इस option की सहायता से आप current document के अन्दर Letter तेयार कर सकते है!

Macro- इस option के द्वारा आप current document के अन्दर macro command को matter के साथ run कर सकते है तथा delete भी कर सकते है और अन्य document में भी same matter को type कर सकते है!

Customize- इस option की सहायता से आप New tool bar को create कर सकते है!

(7)- Table menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Draw table- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर colour full borders & shading का प्रयोग करते हुए इच्छानुसार Rows और columns की संख्या लेकर table तेयार कर सकते है!

Insert- इस option के द्वारा आप current position पर table, column, Rows और cells को insert कर सकते है!

Delete-
इस option की सहायता से आप insert की गयी table, column, rows और cells, को delete कर सकते है!

Select- इस option के माध्यम से आप Table, column, Rows और cells को select कर सकते है!

Split cells-
इस option के द्वारा आप cells को ली गई columns और rows में बाँट सकते हो!


Convert-
इस option की सहायता से आप current document में Text to table और Table to text convert कर सकते है!

Sort-इस option के द्वारा आप current document में selected text को Ascending और Descending order में change कर सकते है!

Show/Hide gridlines- इस option की सहायता से आप gridlines को Table में show और Hide कर सकते है!

(8)- Window menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाये जाते है!

New window- इस option की सहायता से आप current window की New window तेयार कर सकते है!

Arrange all- इस option पर click करने से आप open की गई सभी window को arrange कर सकते है!

Split- इस option के माध्यम से आप current window को दो भागो में बाँट सकते है!

(9)- Help menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाये जाते है!

Microsoft word help- इस option के द्वारा आप ms-word से सम्बन्धित Help topic के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है!

Show/Hide office assistant- इस option के द्वारा आप office assistant को show और Hide कर सकते है!

About ms- word- इस option के माध्यम से आप ms-word program के version, Licence user, program developed team और product ID के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है!

Word Pad

यह program colour full text लिखने,Bio-data Application, Letter, Poem, essay तेयार करने तथा photo और graphics युक्त file तेयार करने के लिए प्रयोग किया जाता है! इस program में सबसे ऊपर की तरफ Title bar उसके निचे  menu bar होती है! Menu bar से निचे Standard tool bar, Formatting bar और Ruler bar होती है Window के बिच में text area और दायी ओर तथा निचे की तरफ Scroll bar होती है! Scroll bar से निचे Status bar होती है!

Title bar- यह आपके program की window के सबसे उपर की तरफ होती है! इसके उपर program का नाम लिखा रहता है और minimize, Maximize, और close button होते है!

Menu bar-यह Title bar से निचे की तरफ़ होती है! इसमे file menu, Edit menu, View menu, Insert menu, format menu और Help menu नामक menu होते है!

Standard tool bar- यह Tool bar मुख्यतः  Menu bar के निचे होती है जिसमे  New, open, save, print, print preview, find, cut, copy, paste, undo और date & time नामक tools होते है जिनको चुनकर आप प्रयोग कर सकते है!

Formatting bar-
यह tool bar मुख्यतः standard tool bar के निचे होती है! इसमे font, font size, font style, Bold, Italic, underline, colour Alignment option और Bullet नामक tools होते है जिनको आप चुनकर current document के अन्दर प्रयोग कर सकते है!

Ruler bar- यह Formating bar के निचे की तरफ होती है! इसको adjust करके आप current document के अन्दर इच्छानुसार paragraph तेयार कर सकते है!

Status bar-
यह Text area के निचे की तरफ होती है जो आपको word pad program के अन्दर प्रयोग किये जाने वाले commands से सम्बन्धित Help topic की जानकारी प्रदान करती है!

Text area-
Word pad program की window के बिच में एक खाली स्थान होता है जिसे text area कहा जाता है! आप Text area के अन्दर अपना document तेयार करते है!

Scroll bar-
Text area के दायी ओर और निचे की तरफ scroll bar होती है जिनका प्रयोग text area के matter को ऊपर-निचे और बाये-दाये करने के लिए किया जाता है!
       
Menu bar के option

1- File menu-
इस menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

New-
इस option पर click करके आप इच्छानुसार document type चुनकर new file बनाना शुरू करते है!

Open-
इस option के द्वारा आप save की गयी file को open कर सकते है!

Save-
इस option की सहायता से आप current document को save कर सकते है!

Save as- इस option की सहायता से आप एक बार save की गयी file को दुसरे नाम से भी save कर सकते है!

Print- इस option पर click करने से आप अपने document को print करा सकते है!

Print preview-
इस option की सहायता से आप current document को print करने से पूर्व उसका print preview देख सकते है!

Page setup-
इस option के द्वारा आप current document को print करने से पूर्व उसके लिए page set कर लेते है!

Send- इस option की सहायता से आप current document को E-mail के द्वारा किसी परिचित को send कर सकते है!

Exit-
इस option पर click करने से word pad program बन्द हो जाता है!

(2)- Edit menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है-

Undo- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर प्रयोग किये गये command को undo कर सकते है!

Cut- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर selected portion को cut कर सकते है!

Copy-
इस option के द्वारा आप current document में selected portion की copy कर सकते है!

Paste-
इस option के द्वारा आप current document के अन्दर cut अथवा copy किये गये portion को इच्छानुसार paste कर सकते है!

Paste special-इस option की सहायता से आप current document के अन्दर cut अथवा copy किये गये portion को विशेष रूप से paste कर सकते है!

Clear- इस option की सहायता से आप current document के अन्दर selected portion को clear कर सकते है!

Select all- इस option पर click करने से पूरी file select हो जाती है!

Find-
इस option पर click करने से आप current document के अन्दर कोई word या Letter को Find कर सकते है!

Find next-
इस option की सहायता से आप current document के अन्दर अनेक बार लिखे गये किसी word या Letter को बार बार Find कर सकते है!

Replace- इस option की सहायता से आप current text के अन्दर किसी word या Letter के स्थान पर अन्य word या Letter को replace कर सकते है!

(3)- View menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Tool bar- इस option पर click करने से आप standard tool bar को Show और Hide कर सकते है!

Format bar- इस option पर click करने से आप format bar को Show और Hide कर सकते है!

Ruler-
इस option के द्वारा आप ruler bar को Show और Hide कर सकते है!

Status bar- इस option के द्वारा आप status bar को Show और Hide कर सकते है!

Option- इस option पर click करने से आप current document के लिए No wrap, wrap to window, wrap to ruler आदि option चुन सकते है और standard tool bar format bar, ruler और status bar एक साथ active और deactive कर सकते है!

(4)-Insert menu-इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाये जाते है!

Date and time- इस option पर click करने से आप current document के अन्दर Date and time को insert कर सकते है!

Object- इस option के द्वारा आप current document के अन्दर Bitmap image, photo shop, image, word document, excel document, power point document आदि object चुनकर insert कर सकते है व विभिन्न object type के अनुसार document तेयार कर सकते है!

(5)-Format menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाये जाते है!

Font-इस option पर click करने से आप text area में लिखे जाने वाले text font, font style, font script, font size, colour आदि को चुनकर प्रयोग कर सकते है और change भी कर सकते है!

Bullet style- इस option के द्वारा आप current text area में लिखे जाने वाले text के लिए bullet को add कर सकते है!यह प्रत्येक पंक्ति से पहले add हो जाती है!

Paragraph- इस option की सहायता से आप current text area में paragraph का size चुन सकते है! paragraph के अन्दर alignment को Left, Right और center चुन सकते है तथा paragraph के लिए Left size, Right size चुन सकते है!

Tabs- इस option की सहायता से आप current text area के लिए ruler bar पर Tab position को set कर सकते है!

(6)-Help menu-इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Help topic-इस option पर click करने से आप word pad program से सम्बन्धित Help topic की जानकारी प्राप्त कर सकते है!

About word pad- इस option पर click करने से आप word pad program के version और windows की physical memory की जानकारी प्राप्त कर सकते है!

Paint Program

इस program के अन्दर आप विभिन्न रंगों और tools का प्रयोग करके drawing तेयार कर सकते है! इसमे आप text में लिख भी सकते है इस program की window में सबसे ऊपर की तरफ Title bar उसके निचे  Menu bar, window के बायीं ओर की तरफ Tool box, इसके निचे Selection box दिखाई देते है! बिच में खाली स्थान Drawing area होता है! Drawing area के दायी और Vertical scroll bar और Drawing area के निचे Horizontal scroll bar होती है! निचे की scroll bar के निचे  colour box और status bar बार होती है!

Title bar:- यह paint program की window के सबसे ऊपर होती है! इस पर program का नाम लिखा रहता है और Minimize, maximize, और close button होते है!

Menu bar:- यह program की title bar के निचे की तरफ होती है! इसमे file menu, Edit menu, view menu, Image menu, colours menu और Help menu होते है!

Drawing area:- paint program की window के बिच में खाली स्थान Drawing area कहलाता है इसमे आप अपनी picture, painting आदि तेयार कर सकते है!

Colour box:- यह paint program की window में Drawing area से निचे होता है! इसके अन्दर बहूत सारे colours होते है जिनको चुनकर आप प्रयोग कर सकते है!

Status bar:- यह आपके program में colour box से निचे होती है! यह paint program के अन्दर प्रयोग किये जाने वाले option अथवा commands के बारे में जानकारी प्रदान करती है!

Scroll bar- यह आपके program के अन्दर Window के दायी ओर और Drawing area से निचे की तरफ होती है! दायी और की Scroll bar को Vertical scroll bar और निचे की scroll bar Horizontal scroll bar कहते है! यह आपके document को बाये-दाये और ऊपर-निचे करने के लिए प्रयोग की जाती है!

Tool box:-
यह Drawing area के बायीं ओर की तरफ होता है! इसके अन्दर बहूत tools होते है! इनकी सहायता से आप Drawing area के अन्दर अपनी file तेयार करते है! Tool box के tools निम्नलिखित प्रकार से प्रयोग किये जा सकते है!


(A)Free from select:- इस tool की सहायता से आप current document के अन्दर इच्छित आक्रति में portion को select कर सकते है!

 (B)Select:- इस tool का प्रयोग current document के अन्दर आयताकार और वर्गाकार के size में आक्रति चुनने के लिए किया जाता है!

(C)Eraser/Colour eraser:- इस tool का प्रयोग drawing area में उपस्तिथ photo, picture, text आदि को मिटाने के लिए किया जाता है!

(D)Fill with colour:-इस tool का प्रयोग drawing area में उपस्थित document में colour भरने के लिए किया जाता है!

(E)Pick colour:- इसका प्रयोग drawing area में उपस्तिथ photo, picture, painting में colour को चुनकर दूसरी जगह भरने के लिए किया जाता है! यह रंग का चुनाव करने के लिए प्रयोग होता है!

(F)-Magnifier:-
यह tool drawing area में उपस्तिथ document के किसी भी भाग पर click करने पर उस भाग को बड़े आकार में प्रदशित करता है!


(G)Pencil:- इस tool की सहायता से आप colour box से कोई भी रंग चुनकर pencil का प्रयोग करते हुए अपने drawing area में चित्रकारी कर सकते है!

(H)Brush- इस tool की सहायता से आप drawing area में किसी भी रंग को चुनकर brush painting, picture आदि तेयार कर सकते है!

(I)Text:-
इस tool की सहायता से आप drawing area के अन्दर text area बना सकते है जिसमे आप text लिखते है! और text के अन्दर लिखे जाने वाले font, font style, font size, bold, italic, underline आदि भी इच्छानुसार चुन सकते है! 


(J)Line:- यह tool drawing area के अन्दर Line खींचते के लिए प्रयोग किया जाता है!

(K)Curve:-
इस tool की सहायता से drawing area के अन्दर चाप खिचे जा सकते है! यह तिरछी रेखा खींचने के लिए भी प्रयोग किया जाता है!


(L)Rectangle:-
यह tool, drawing area में आयत अथवा वर्ग बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है!


(M)Polygon:- यह tool drawing area में एक बहुभुज खींचने के लिए प्रयोग किया जाता है! यह tool जिस जगह से प्रयोग करना शुरू करते है वापस उसी जगह आकर ख़त्म होता है!

(N)Ellipse:-
इस tool की सहायता से drawing area में व्रत के आकर में आक्रतिया बनाई जाती है!


(O)Rounded Rectangle:-
इस tool का प्रयोग drawing area के अन्दर कोने मुड़े हुए आयत अथवा वर्ग की आक्रति बनाने के लिए किया जाता है!


Selection box:- यह paint program के अन्दर tool box के निचे की तरफ होता है! जब आप tool box से किसी tool को चुनते है तो उसी tool से सम्बंधित option selection box में प्रदशित हो जाते है! आप इसमे से कोई भी option चुनकर प्रयोग कर सकते है!

Menu bar के option
        
1- File menu:- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है-

New:- यह option new file बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है!

Open:- इस option की सहायता से आप paint program में पहले से save की गयी file को open कर सकते है!

Save:- इस option की सहायता से आप current document को save कर सकते है!

Save as:- इस option की सहायता से आप पहले से save की गई file को दुसरे नाम से भी save कर सकते है

From scanner or camera:- इस option की सहायता से आप Drawing area के अन्दर Scanner और camera से भी कोई photo, picture अथवा painting को add कर सकते है!

Print preview:-
इस option की सहायता से आप current document को print करने से पूर्व उसका print preview देख सकते है!


Page setup:- इस option की सहायता से आप तेयार किये गये document को page पर print करने से पूर्व page set कर लेते है!

Print:- इस option की सहायता से आप current document को print कर सकते है!

Send:- इस option पर click करने से आप तेयार किये गये document को किसी परिचित को E-mail के माध्यम से भेज सकते है!

Set as wall paper(tiled):- इस option के माध्यम से आप तेयार की गयी file को save करके Wallpaper की तरह  desktop पर लगा सकते है! आपकी file desktop पर Tiled में दिखाई देती है!

Set as wallpaper(centred):- इस option की सहायता से आप current file को save करके wallpaper की तरह desktop के बिच में लगा सकते है!

Exit:- इस option पर click करने से paint program बन्द हो जाता है!

(2)-Edit menu:- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Undo:-इस option पर click करने से आप current file के अन्दर प्रयोग किये गये command को undo कर सकते है!

Repeat:- इस option पर click करने से आप current file के अन्दर प्रयोग किये गये undo option को वापस ला सकते है!

Cut:- इस option के द्वारा आप अपने बनाये गये document के अन्दर selected portion को cut कर सकते है!

Copy:-इस option की सहायता से आप current file के अन्दर Selected portion की दूसरी Copy तेयार कर सकते है!

Paste:- इस option के द्वारा आप cut अथवा copy किये गये portion को इच्छानुसार paste कर सकते है!

Clear selection:- इस option पर click करने से आप selected portion को clear कर सकते है!

Select all- इस option के द्वारा पूरी file select हो जाती है उसके अन्दर का data भी select हो जाता है!

Copy to:-
इस option के द्वारा आप current file को दूसरी file में ले जा सकते है!


Paste from:- इस option पर click करने से आप अपनी current file के अन्दर दूसरी file भी paste कर सकते है!

(3)-View menu:-
इस Menu के अन्दर निम्नलिखित options पाए जाते है!


Tool box:- इस option की सहायता से आप current file के अन्दर Tool box को show और Hide कर सकते है!

Colour box:- इस option पर click करने से आप colour box को show और Hide कर सकते है!

Status bar:- इस option की सहायता से आप status bar को Show और Hide कर सकते है!

Text tool bar:- इस option की सहायता से आप Text tool bar को show और hide कर सकते है! इस Tool bar की सहायता से आप Text area में लिखे गये text का font, font style, font size, bold, italic, underline आदि इच्छानुसार कर सकते है!

Zoom:- इस option की सहायता से आप current file को Normal size और Large size में देख सकते है! तथा custom option पर click करके current file को  100%, 200%, 400%, 500%, 800%, के size में भी देख सकते है! Show grid नामक option को चुनकर current file को grid line में देख सकते हो! Show thumbnail नामक option को चुनकर current file को thumbnail size में देख सकते हो!

View bitmap:- इस option पर click करने से paint program की सभी bars, tool box, colour box, आदि Hide हो जाती है और आपकी current file पूरी screen पर दिखाई देती है!

(4)-Image menu:- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है-

Flip/Rotate:- इस option पर click करने से आप current file के अन्दर के photo, picture, painting text आदि को Horizontal और Vertical रूप में घुमा सकते हो तथा Rotate by angle option पर click करके  matter को 90, 180, 270, degree के रूप में भी घुमा सकते हो!

Stretch/Skew:- इस option पर click करने से आप current file की अन्दर photo, picture, painting, text आदि को कुछ प्रतिशत का size देकर horizontal और  vertical रूप में stretch कर सकते है! तथा कुछ degree का size देकर matter को horizontal और vertical रूप में skew कर सकते है!

Invert colours:- इस option पर click करने से आप अपनी current file के अन्दर colour भर सकते है व दोबारा click करने से भरे गये colour को हटा सकते है!

Attribute:- इस option की सहायता से आप current file के लिए उपयुक्त width और Height चुन सकते है! इसके साथ साथ आप current file के लिए colour अथवा  black and white रंग भी चुन सकते है!

Clear image:- इस option के द्वारा तेयार की गयी current file को clear कर सकते है!

Draw opaque:- इस option पर click करने से आप current file के अन्दर के रंगों के साथ अपने text को भी draw कर सकते है!

(5)- Colour menu:- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Edit colour:- इस option के द्वारा आप विभिन्न प्रकार के colours को चुनकर अपने colour box में दल सकते है!

(6)- Help menu:-इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Help topic:- इस option के द्वारा आप paint program से सम्बन्धित Help topic के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है! 

About paint:- इस option की सहायता से आप paint program के version, license और physical memory के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है!

Tuesday, 16 January 2018

Note pad

इस program के अन्दर आप लिखित कार्य कर सकते है! इसके अन्दर आप Application, Letter, poem, essay आदि documents तेयार कर सकते है! इस Program की window में सबसे ऊपर Title bar, उसके निचे Menu bar, दायी ओर और निचे की तरफ Scroll bar, Scroll bar  के निचे की तरफ Status bar व window के बिच में Text area दिखाई देता है!

Title bar- यह program की window के सबसे ऊपर की तरफ होती है! इसके ऊपर program का नाम लिखा रहता है तथा Minimize, Maximize, व Close  button होते है!

Menu bar-
यह Title bar के निचे की तरफ होती है इसके ऊपर file menu, Edit menu, Format menu, View menu, व Help menu नामक option पाए जाते है!

Scroll bar- यह program की window के दायी ओर और Window के निचे की तरफ होती है! दायी और की Scroll bar को Vertical scroll bar कहते है इसका प्रयोग  program में लिखे गये Text के page को ऊपर-निचे करने के लिए किया जाता है! window के निचे की scroll bar को Horizontal scroll bar कहते है! इसका प्रयोग current text page को बाये-दाये करने की लिए किया जाता है!

Status bar- यह program की window के सबसे निचे की तरफ होती है! यह आपके program में किये जाने वालो कार्यो और प्रयोग किये जाने वाले  option के बारे में जानकारी प्रदान करती है!

Text area-
यह आपके program की window के बिच में एक खाली स्थान होता है जिसमे आप Name, Letter, Application, essay, poem, word या sentence को Type करते है!

Menu bar के option

1- File menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है-

New- यह option, new file बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है!

Open-
इस option पर click करने से आप पहले से बनाई गयी file को open कर सकते है!

Save-
इस option से आप current file को save कर सकते है!

Save as-
इस option की सहायता से आप किसी save की गयी file को दुसरे नाम से भी save कर सकते है!

Page setup- इस option की सहायता से file को printer पर print करने से पहले page set कर लेते है!

Print- इस option की सहायता से file print हो जाती है!

Exit- इस option पर click करने से Note pad program बन्द हो जाता है!

2- Edit menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित options पाए जाते है!

Undo-
इस option पर click करने से current file के अन्दर प्रयोग किये गये command undo कर सकते है!

Cut-
इस option की सहायता से आप Selected portion को cut कर सकते है!

Copy-
इस option की सहायता से आप current file के अन्दर Selected portion को copy करके उसकी दूसरी copy तेयार कर सकते है!

Paste- इस option की सहायता से आप current file के अन्दर copy या cut किये गये portion को इच्छानुसार paste कर सकते है!

Delete-
इस option पर click करने से आप selected portion को delete कर सकते है!

Find- इस option पर click करने से आप current file के अन्दर विशेष Word या Letter को Find कर सकते है!

Find next- इस option पर click करने से आप current file के अन्दर find किये गये विशेष word या Letter को बार-बार find कर सकते है!

Replace-
इस option की सहायता से आप current file के अन्दर किसी भी Letter या word के स्थान पर दूसरे word या Letter को Replace कर सकते है!

Go to- इस option के द्वारा आप अपनी file के अंदर किसी भी Line पर जा सकते है!

Select all- इस option के द्वारा आपकी पूरी file select हो जाती है! उसके अन्दर का text भी select हो जाता है! इसके बाद आप अपनी file को copy, cut अथवा delete कर सकते है!

Time/date- इस option पर click करने से आप current file के अन्दर Time/date को add कर सकते है!

3- Format menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Word wrap- इस option पर click करने से आप लिखे जाने वाले text की अवस्था को ऊपर-निचे और बाये-दाये की स्थिति में select कर सकते है!

Font- इस option की सहायता से आप current file के अन्दर लिखे जाने वाले text का font, font style, font size, bold, italic, underline आदि चुन सकते है!

4-View menu- इस menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Status bar-
इस option पर click करने से आप status bar को show/Hide कर सकते है!

5-Help menu- इस Menu के अन्दर निम्नलिखित option पाए जाते है!

Help topic- इस option की सहायता से आप Notepad program से सम्बन्धित Help topic के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है!

About Note pad- इस option पर click करने से आप note pad program के Version और Physical memory के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है!

Start Menu Programs

जब आप computer की screen पर desktop दिखाई देती है तो Taskbar पर उपस्थित start button पर mouse की click करते है अथवा windows key को दबाते है तो आप start button के अन्दर computer के program और अन्य options की जानकारी प्राप्त कर सकते है!

Shut down/Turn off :-इस option पर click करने से आपका computer बन्द हो जाता है!

Stand by/Hibernate :- इस option पर click करने से आपके द्वारा open किये गये programs files, folders सुरक्षित रहते है और computer stand by/Hibernate हो जाता है! जब आप दोबारा computer का switch on करते है तो आपके द्वारा open किये गये programs, files folders पहली अवस्था में ही रहते है! उनको कोई नुकसान नही होता आप दोबारा से उन पर कार्य करना शुरू कर सकते है!

Restart :- इस option पर click करने से computer बन्द होकर दोबारा चल जाता है!

Log off :- इस option पर click करने से आप अपने computer को Log off कर सकते है तथा दोबारा computer में user name और password enter करके log on कर सकते है!

Run :- इस option पर click करने से आप अपने computer का कोई भी program, file, folder आदि Short cut तरीके से Run करा सकते है!

Help and Support :-इस option पर click करने से आपके सामने computer की guide book खुल जाती है जो आपको कंप्यूटर के programs और parts के बारे में Help topic की जानकारी प्रदान करती है!

Search :- इस option पर click करने से आप अपने computer की memory में कोई भी files अथवा folders को  search कर सकते है!

Control panel :- इस option पर click करने से आप computer के सभी भागो के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है!यहाँ से आप अपने computer की setting को change क्र सकते है! इस option के द्वारा आप अपने computer के mouse, key board, monitor, printer, network, date/time, sound, user account, display  आदि की setting को change कर सकते है!

Recent Document :- इस option पर click करने से आप 10-15 files व folders की तालिका दिखाई देती है जो आपके द्वारा कुछ समय पहले बनाये जाते है अथवा प्रयोग किये जाते है!

All programs :- इस option पर click करने से आपके सामने उन programs की तालिका खुल जाती है जो आपके computer में install कर रखे है! इसके अन्दर ms-word, ms-Excel, ms-power point, kundli, Typing master, photo shop, Corel draw, Tally, winamp, Foxpro, Accessories, Nero express आदि programs हो सकते है!

Accessories :- इस option पर click करने से आपको  paint, Notepad, word pad, calculator, ms-Dos prompt आदि programs की तालिका दिखाई देती है! आप किसी भी program को चुनकर प्रयोग कर सकते है!

Entertainment :- इस option के अन्दर window media player, CD player, games, Audio player आदि मनोरंजन करने वाले programs होते है जिनको चुनकर आप प्रयोग कर सकते है!

Desktop’s programs

जब आप computer का Switch on करते है तो आपको Monitor की screen पर कुछ files चलती हुई दिखाई देती है! जो आपके Computer के बारे में information देती है!इन files को POST (Power On Self Test) कहा जाता है ये files कंप्यूटर को Run कराती है!कंप्यूटर कुछ समय चलने के बाद एक जगह आकर रुक जाता है जहाँ पर आपको बायीं और की तरफ कुछ program’s icons दिखाई देते है! मुख्यतः My computer, My documents, Recycle bin, Internet explorer, Network place अथवा Network neighbor hood व अन्य icons दिखाई देते है!जिस जगह पर ये सभी icons होते है उस जगह को Desktop कहा जाता है!Desktop के निचे की तरफ एक पट्टी होती है जिस पर बायीं और start button और दायी और Sound, time, Antivirus आदि options  उपस्थित होते है!इस पट्टी को Taskbar के नाम से जाना जाता है!Taskbar पर Start button के बराबर में कुछ program’s icons भी उपस्थित हो सकते है! Desktop के बिच में एक तीर का निशान दिखाई देता है वह आपके Mouse का pointer होता है!जिस प्रकार आप mouse को घुमाते है उसी प्रकार mouse का pointer भी घूमता है!Desktop के सभी program mouse की double click करने से खुलते है!
Desktop के icons के बारे में आप अधिक जानकारी उनको open करके प्राप्त कर सकते है!

My computer :- इस option पर click करने से आप अपने computer के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है इस option के द्वारा आप Hard disk portion Hard disk capacity, floppy drive, CD ROM, DVD ROM, तथा control panel और programs (जो आपके कंप्यूटर में है) आदि के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है!

My documents :- इस option के अन्दर वे सभी files व folder होते है जो आपने विभिन्न programs के अन्तर्गत अपने computer में save कर रखे है!आप यहाँ से save की गयी files को open करके उसके बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है!

Recycle bin :-
इस option के अन्दर वे files और folders होते है जो आपने कहीं से delete कर रखे है! आप Restore करके अपनी files को वापस उसी स्थान पर ले जा सकते है जहाँ से उनको delete किया गया था यदि आप Empty Recycle bin पर click करते है तो आपका Recycle bin खाली हो जाता है और आपकी files अथवा folders (जो Recycle bin में थे) भी खत्म हो जाते है!


Internet explorer :-
यह option internet use करने के लिए आपका browser होता है! जब आप अपने computer को  internet से जोड़ लेते है तो internet explorer की सहायता से internet को प्रयोग कर सकते है!

Network Neighbour hood or network place :-  इस option की सहायता से आप कई कंप्यूटरों को आपस में जोड़ सकते है व एक-दुसरे के साथ files का आदान-प्रदान कर सकते है!

Desktop पर इन icons के अलावा कुछ और program’s icons भी हो सकते है जैसे paint, ms-dos prompt, note pad, word pad, kundli, winamp, nero express, photo shop, corel draw, ms-word, ms-excel, ms-power point आदि आप इन options के ऊपर click करके इनके बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है!

Secondary Memory

Secondary Memory

कंप्यूटर में स्टोरेज डिवाइस कंप्यूटर की द्वितीय मेमोरी (Secondary Memory) कहा जाता है। यह प्रकृतिक रूप से अपरिवर्तनशील मेमोरी है जो डेटा को कंप्यूटर स्विच ऑफ़ होने के बाद भी स्थायी रूप से रखती है। CPU सीधे तौर पर द्वितीय मेमोरी तक नहीं पहुँच सकता। सर्वप्रथम द्वितीय मेमोरी का डेटा प्राथमिक मेमोरी को सौंपने पर ही CPU इसे उपयोग कर सकता है।
उदाहरण हैं- Flopy Disk, Hard Disk, DVD, Pen Drive, Memory card आदि;

Floppy disk :- इनका प्रयोग computer के अन्दर सूचनाओ को store करने के लोए किया जाता है!एक computer से दुसरे computer में data को transfer करने के लिए Floppy disk का प्रयोग किया जाता है!एक Floppy disk को computer में लगायी गयी Floppy drive में डालकर प्रयोग करते है!
Floppy disks दो प्रकार के Sizes में मिलती है-
(A-5.5 inch-360KB-180page
                        720KB- 360 page
(B)-3.3 inch- 1.44MB-700 page
                       1.22 MB-600 page

Hard Disk :- एक Hard disk भी Floppy disk की तरह data को store करने के लिए प्रयोग की जाती है!परन्तु Hard disk की Capacity व Size, Floppy disk की अपेक्षा विशाल होती है!यह पूरी तरह से बन्द होती है और computer में लगाई जाती है Hard disk की storage capacity मुख्यतः floppy disk व CD Rom और DVD Rom से अधिक होती है!
यह मुख्यतः 40MB, 80MB, 120MB, 500MB, 2GB, 4GB, 10GB, 20GB, 40GB, 80GB, 160GB, 320GB, 460GB, 500GB आदि Capacity में पायी जाती है!

DVD Rom (Digital Versatile Disk Read Only Memory) :- इसका प्रयोग data को store करने के लिए किया जाता है! यह भी CD Rom की तरह होती है! परन्तु इसकी storage capacity एक CD की अपेक्षा विशाल होती है! यह एक computer से दुसरे computer में data को transfer करने के लिए प्रयोग की जाती है! इसके अन्दर data को केवल एक बार store करके कई बार read किया जा सकता है परन्तु आज कल बाजार में ऐसी भी DVD उपलब्ध है जिनके अन्दर data को कई बार store/delete किया जा सकता है!

Pen drive :- यह data को एक स्थान से दुसरे स्थान पर ले जाने के लिए प्रयोग की जाती है!इस device के अन्दर आप data को कई बार store/delete कर सकते है! यधपि इसकी capacity सिमित होती है!इसके अन्दर store किया data सुरक्षित रहता है!
बाजार में कई प्रकार की Pen drive उपलब्ध है जिनकी storage capacity भिन्न-भिन्न है!इनकी storage capacity Floppy disk, CD, DVD से अधिक होती है!

Memory card :- इसका प्रयोग एक computer से दुसरे  computer में data को transfer करने के लिए किया जाता है! इसका प्रयोग आजकल मोबाईल फोन के अन्दर भी किया जा रहा है!इसके अन्दर data को कई बार store/delete किया जा सकता है!memory card की storage capacity Floppy disk, CD और DVD से अधिक होती है!

Primary Memory (RAM & ROM)

 Primary Memory

इसे आंतरिक या मुख्य मेमोरी भी कहते हैं | यह सीपीयू  से सीधे जुड़ा रहता है | इसका अर्थ है की CPU इसमें स्टोर किये गये निर्देशों को लगातार पढ़ता रहता है और इनका पालन करता है |
प्राइमरी मेमोरी दो प्रकार की होती है _
1. रैम (RAM)
2. रोम (ROM)

1. रैम (RAM)

यह मेमोरी एक चिप पर होती है , जो मैटल-आक्साइड सेमीकंडक्टर से बनी होती है | हम इस मेमोरी के किसी भी लोकेशन को चुनकर उसका सीधे ही किसी डाटा को स्टोर करने या उनमे से डाटा पढने के लिए कर सकते हैं | रैम में वे प्रोग्राम और डाटा रखे जाते हैं , जिनको सीपीयू खोज सके और वहां से प्राप्त कर सके | इस मेमोरी को भी कई भागों में बांटा जाता है , ताकि उसमे रखी गई सुचना को व्यवस्थित किया जा सके और उन्हें पाया जा सके | ऐसे प्रत्येक भाग का एक निश्चित पता होता है | किसी डाटा बस की सहायता से हम रैम से किसी सुचना को निकाल सकते हैं या  इसमें कोई सुचना स्टोर कर सकते हैं| इसको कंप्यूटर की प्रमुख मैमोरी कहा जाता है| यह अस्थाई (Temprory) मैमोरी होती है अर्थात इसमें स्टोर डाटा कंप्यूटर बंद होने पर डिलीट हो जाता है| जिसको पुन: प्राप्त नहीं किया जा सकता है|यह voletile Memory कहलाती है|

रैम दो प्रकार की होती है-
(A)डायनैमिक रैम (dynamic ram)
(B)स्टैटिक रैम(Static ram)

 (A)डायनैमिक रैम (dynamic ram) :- इसे डी रैम भी कहते हैं। डी रैम चिप के स्टोरेज सेल परिपथ में एक ट्रांजिस्टर लगा होता है जो ठीक उसी प्रकार कार्य करता है जिस प्रकार कोई ओन/ ऑफ़ स्विच कार्य करता है और इसमें एक कैपेसिटर भी लगा होता है जो एक विद्युत चार्ज को स्टोर कर सकता है। इसे बार बार रिफ्रेश किया जाता है जिसके कारण इसकी गति धीमी होती है। इस प्रकार डायनेमिक रैम चिप ऐसी मेमोरी की सुविधा देता है जिसकी सुचना बिजली बंद करने पर नष्ट हो जाती है। 

(B)स्टैटिक रैम(Static ram) :- इसे एस रैम(SRAM) भी कहते हैं। इसमें डेटा तब तक संचित जब तक विद्युत सप्लाई ऑन रहती है। स्टैटिक रैम में स्टोरेज सेल परिपथ में एक से अधिक ट्रांजिस्टर लगे रहते हैं। डायनेमिक रैम की तुलना में स्टैटिक रैम महंगा होता है।

2.रोम (ROM)

ROM की Full Form “Read Only Memory” है| ROM कंप्यूटर सिस्टम का प्राइमरी स्टोरेज डिवाइस है। यह CHIP के आकार की होती है जो की कंप्यूटर के मदरबोर्ड से जुड़ी हुई होती है। जैसा कि नाम से ही पता लगता है कि हम बस इस मेमोरी को रीड कर सकते है। इस में आप कुछ लिख नहीं सकते हैं या कोई डाटा स्टोर नहीं कर सकते हैं। यह RAM मेमोरी की तरह अपना डाटा कंप्यूटर बंद होने के बाद नहीं खत्म करती है।
रोम(ROM) कई प्रकार की होती है-
(A). PROM : ProgrammableROM
(B). EPROM(Erasable and Programmable ROM)
(C). EEPROM(Electrically Erasable and Programmable Read Only Memory

(A). PROM : ProgrammableROM :- PROM के अंतर छोटे फ्यूज होते है, जिन्हें प्रोग्रामिंग के दौरान जला कर खोल दिया जाता है| इस पर केवल एक बार ही लिखा जाता है और उसे फिर मिटाया नहीं जा सकता|
(B). EPROM(Erasable and Programmable ROM) :- इसे यदि 40 मिनट तक पराबैंगनी प्रकाश के अन्दर रखा जाए, तो इस पर लिखे हुए डाटा को मिटाया जा सकता है| इस पर नया डाटा फिर से लिखा या प्रोग्राम किया जा सकता है|
(C). EEPROM(Electrically Erasable and Programmable Read Only Memory :- इस मेमोरी को लगभग 10,000 तक बार बार नया डाटा लिखने के लिए प्रयोग किया जा सकता है| इसमें नया डाटा प्रोग्राम करने या मिटने में बहुत की कम समय लगता है|

Output Device

Output Device

(1)Monitor :- Monitor एक T.V की तरह होता है यह T.V की तरह Display और colour देता है! एक monitor को  CRT(cathode ray tube) screen, VDU(Visual Display Unit) TFT( Thin Film Transistor) भी कहा जाता है! Monitor की screen या तो monochrome होती है अथवा colour होती है monitor आपको computer के कार्यो का परिणाम दिखता है अत: monitor एक Output device होती है! इसका नाम LCD( Liquid Crystal Display) भी है!

(2)Printer :- printer कंप्यूटर के द्वारा अधिकतर प्रयोग की जाने वाली एक output device है!computer पर बनाये गये document को अंत में printer की सहायता से एक paper पर print करते है! जिस document को print कराते है उसकी copy को printout बोलते है!printer के अन्दर कई प्रकार के paper प्रयोग किये जा सकते है! Printer की speed या तो pages per minute होती है अथवा character per second होती है!printer भिन्न-भिन्न size और printing technology के अनुसार अलग-अलग होते है!printer निम्नलिखित प्रकार के होते है :- Dot Matrix Printer, Line printer, Inkjet printer, Laser printer, Deskjet printer.

(3)Speaker :- Speaker एक output device होती है यह sound के रूप में result प्रदान करती है!यह computer का  peripheral part भी है!इसे आवश्कतानुसार computer से जोड़ा जाता है!

(4)Head phone :- यह computer का एक peripheral part होता है!इसे आवश्यकतानुसार computer में जोड़ देते है!इसके अन्दर speaker व microphone लगा रहता है जिसका प्रयोग आप internet पर कर सकते है यदि आप अकेले Music का आनन्द लेना चाहते है तो Headphone के द्वारा ले सकते है!

Input Device

Input Device

(1)Key board :- यह Computer के अन्दर data डालने का सबसे महत्वपूर्ण भाग होता है! यह एक type writer की तरह काम करता है! इसके अतिरिक्त यह Numbers, alphabet, command और functions को भी प्रदशित करता है! एक keyboard के अन्दर लगभग 101-104 तक keys होती है! भिन्न-भिन्न कम्पनियों के द्वारा बनाये गये keyboard के अन्दर keys की संख्या कम या अधिक हो सकती है! Key board पर उपस्थित keys कई प्रकार की होती है जो निम्नलिखित प्रकार से प्रयोग की जाती है-

Escape key :- यह key, key bard में सबसे ऊपर बायीं और कोने पर होती है! यह program के अन्दर खोले गये option को बन्द करने के लिए प्रयोग की जाती है! इस key के ऊपर Esc लिखा रहता है!

Numeric keys :- ये keys computer के अन्दर Numbers को लिखने के लिए प्रयोग की जाती! ये keyboard में ऊपर से दुसरी पंक्ति में पायी जाती है!

Caps Lock Key :- इस key का प्रयोग computer में alphabet के अक्षरों (A to Z) को बड़े आकर में लिखने के लिए किया जाता है! इस key का Numbers और Symbols पर कोई प्रभाव नही पड़ता है! इस key के ऊपर caps Lock लिखा रहता है!

Space bar key :- यह key पुरे keyboard में सबसे बड़ी होती है तथा इसके ऊपर space bar लिखा रहता है! इसका प्रयोग एक शब्द से दुसरे शब्द के बिच जगह रखने के लिए किया जाता है!

Alphabet keys :- इन keys का प्रयोग computer के अन्दर alphabet (A to Z) के अक्षरों को लिखने के लिए किया जाता है! इनको अलग-अलग प्रकार से Shift key, Control key, Alt key के साथ भी प्रयोग किया जाता है!

Control keys :- इन keys का प्रयोग हमेशा दूसरी keys के साथ किया जाता है! इन keys के ऊपर ctrl लिखा रहता है!

Alt keys :- इन keys का प्रयोग भी हमेशा दूसरी keys के साथ किया जाता है! इनके ऊपर Alt लिखा रहता है!

Shift keys :- इन keys का प्रयोग भी दूसरी keys के साथ किया जाता है ये keys किसी भी key की अवस्था को बदलने के लिए प्रयोग की जाती है! इन keys के ऊपर shift लिखा रहता है!

Tabs key :- इस key का प्रयोग selection bar को ऊपर-निचे करने के लिए व option को चुनने के लिए किया जाता है! इस key के ऊपर tabs लिखा रहता है!

Window keys :- इन keys का प्रयोग Desktop पर start button को खोलने के लिए किया जाता है! इन keys के ऊपर window का Logo बना रहता है!

Enter keys :- इन keys का प्रयोग program में दिए गये command की पुष्टि करने व option को open करने के लिए किया जाता है! इन keys के ऊपर enter लिखा रहता है!

Functions keys :- ये keys keyboard में सबसे ऊपर की पंक्ति में F1 से F12 तक पायी जाती है! विभिन्न programs में इनका प्रयोग अलग-अलग प्रकार से किया जाता है! ये keys single दशा में भी प्रयोग की जा सकती है और दूसरी keys के साथ में भी प्रयोग की जा सकती है!

Delete key :- इस key का प्रयोग program में select किये गये portion को खत्म करने के लिए किया जाता है! इस key के ऊपर delete लिखा रहता है!

Back space key :- इस key का प्रयोग program में लिखे गये Letter, Word या sentence को मिटाने के लिए किया जाता है!

Special keys :- इन keys का प्रयोग computer में चलाये गये program के अन्दर अलग-अलग प्रकार से किया जाता है! ये keys Home, page up, page down, End, del, Help आदि होती है!

Arrow keys :- इन keys का प्रयोग program में cursor की दशा को up, down, Left और Right चारो दिशाओ में परिवर्तित करने के लिए किया जाता है!

(2)Mouse :- Mouse एक input device होता है इसका प्रयोग Monitor की screen पर cursor की दशा बदलने और options को चुनने के लिए किया जाता है! Mouse को सामान्यत: mouse pad पर घुमाया जाता है! जब Mouse को एक user चलता है तो mouse का pointer भी इधर-उधर चलता है! mouse, keyboard की अपेक्षा menu के  options को विशेष प्रकार से चुन लेता है! एक mouse में निचे के ताल में  Ruber ball अथवा Laser light होती है! इसके ऊपर की तरफ 2-3 buttons होते है! Button का प्रयोग किसी भी option को खोलने अथवा बन्द करने की लिए किया जाता है! Ruber ball अथवा laser light mouse के pointer को इधर-उधर ले जाने में सहायता करती है! mouse का Left button अधिक प्रयोग किया जाता है जबकि Right button खोले गये option के बारे में extra option प्रदान करता है! सामान्य रूप से mouse का pointer एक तीर का निशान होता है!

(3)Scanner :- scanner एक input device होती है यह computer का peripheral part भी है! जब हमे इसकी आवश्यकता होती है तभी हम इसे computer से जोड़ देते है! यह photo copy machine की तरह होता है! एक scanner हाथ से लिखे गये text, photo, picture, graphics आदि को computer में भेजता है! यह अधिकतर किताबो को छापने फोटो बनाने आदि के लिए प्रयोग किया जाता है!

(4)Joystick :- इसका प्रयोग  computer पर game चलाने के लिए किया जाता है!यह कंप्यूटर का एक peripheral part होता है!इसे आवश्यकतानुसार computer से जोड़ देते है!

(5)Web camera :- इसका प्रयोग computer पर Internet के द्वारा chat करते समय अपना व दुसरो का photo देखने के लिए किया जाता है यह आपके photo को कंप्यूटर में भेजता है!

(6)Light pen :- इस device की सहायता से आप data को  computer में भेजते है!यह आपके scanner की तरह काम करता है!आप एक तरफ Light pen से कुछ लिखते है और दूसरी तरफ वह आपके computer में दिखाई देता है आप इस device की सहायता से अपनी Hand writing में data को computer में भेज सकते है!

Components of Computer part 4 (Computer Software)

Computer Software

Software विभिन्न program का एक set है!जिसकी सहायता से computer काम करता है!Hardware की तरह software को छु नही सकते बल्कि उसको icons के रूप में देख सकते है!यदि computer से काम करना है तो यह आवश्यक हो जाता है की computer के अन्दर software, हो Software, computer और user के बिच की ही कही है! बिना software के computer एक dead machine है!यदि Hardware कंप्यूटर का शरीर है तो software कंप्यूटर को आत्मा है!

Software दो प्रकार के होते है :-
1-System software
2-Application software

(1)-System software :- इस प्रकार के software का प्रयोग computer पर काम करने के लिये computer को Active बनाना है!system software कंप्यूटर की Windows होती है जो computer में डाली जाती है! जो computer को operate करती है!सभी operating system, system software  कहलाते है!system software निम्नलिखित होते है-Dos 6.22, Windows 95, Windows 98, Windows ME (Millenium Edition), Windows 2000, Windows XP, Windows NT, Windows Vista, Windows 7, Windows 8, Windows 10 आदि|

(2)-Application software :- वे सभी software जिनको अलग-अलग उदेश्यों की पूर्ति के लिए computer में डाला जाता है  Application software कहलाते है!ये software कंप्यूटर के अन्दर पहले से डाले गये system software के अन्दर ही डाले जा सकते है और प्रयोग किये जा सकते है!यदि computer के अन्दर system software नही है तो Application software को प्रयोग नही किया जा सकता!
Application software निम्नलिखित होते है :- Microsoft word, Microsoft excel, Microsoft power point, Microsoft Acces, Tally, Corel draw, Photoshop, Typing master आदि|

Components of Computer part 3 (Memory unit)

Memory unit

 यह computer के अन्दर दिए गये input data को याद रखती है अथवा Store कर लेती है! यधपि Main memory का Size सिमित होता है! यदि हमे अधिक data को Store करने की आवश्कता होती है तब हम दूसरी memory device चुन सकते है! जो Secondary Storage device  के नाम से जनि जाती है! जब आप Secondary Storage device में data को डालते है तो वह हमेशा के लिए स्थिर हो जाता है! इनके अन्दर का data सुरक्षित रहता है!

Memory device दो प्रकार की होती है-

(A)-Primary Storage device :- यह input unit के साथ काम करती है और output device को Result भी प्रदान करती है! यह निर्देशों और Programs को process भी कराती है! Primary storage device निम्नलिखित होती है-
1. RAM (Random Access Memory)
2.ROM (Read Only Memory)

(B)- Secondary Storage device :- यह data को स्थिर रूप से store करने के लिए प्रयोग की जाती है कंप्यूटर बन्द होने के बाद भी इसमे उपलब्ध data मिटता नही है वह ज्यो का त्यों बना रहता है!

Secondary Storage device निम्नलिखित होती है :- Floppy disk, Hard disk, CD ROM(compact Disk Read only memory), DVD (Digital Versatile Disk), Chip (memory card), Pen drive आदि!

Cache Memory

यह आकार में छोटी लेकिन मुख्य मेमोरी से भी तेज होती है। CPU प्राइमरी मेमोरी की अपेक्षा इसका तेजी के साथ उपयोग (access) कर सकता है। यह CPU द्वारा बार-बार इस्तेमाल होने वाला डेटा और प्रोग्राम को रखती है। अगर CPU आवश्यक डेटा या निर्देश कैश मेमोरी (cache memory) में पाता है तो प्राथमिक मेमोरी (RAM) का उपयोग करने की जरूरत नहीं है। इस प्रकार यह सिस्टम के प्रदर्शन को गति देता है।

Components of Computer part 2 (Central Processing Unit)

सेन्ट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (CPU)

कंप्‍यूटर की संरचना (Computer Architecture)में सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit)  केन्‍द्र में रहता है, इनपुट यूनिट द्वारा डाटा और निर्देशों को कंप्‍यूटर में एंटर किया जाता है और इसके बाद सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit) डाटा को प्रोसेस करता है और आपको आउटपुट देता है, यह पीसी से जुड़े विभिन्न उपकरणों को नियंत्रित करता है, और कम्प्यूटर द्वारा प्राप्त सूचनाओं का विश्लेषण करता है। यह एक इलेक्ट्रॉनिक माइक्रोचिप है जो डेटा को इनफॉर्मेशन में बदलते हुए प्रोसेस करता है। इसे कम्प्यूटर का ब्रेन कहा जाता है । यह कम्प्यूटर सिस्टम के सारे कार्यों को नियंत्रित करता है| यह  डाटा को प्रोसेस करने में यह अपने दो भागों की मदद लेता है अर्थमेटीक लॉजिक यूनिट (Arithmetic Logic Unit ) और कंट्रोल यूनिट (Control Unit)|


Arithematical & Logical unit(ALU) :- सभी अंकगणितीय और लघुगणकीय कार्य ALU के द्वारा किये जाते है! यह अंकगणितीय और लघुगणकीय इकाईयो को Main memory, control unit और output unit तक ले जाने का काम करती है! Main memory में उपलब्ध आंकड़ो के आधार पर ही यह अपना कार्य करती है! यह Main memory के साथ process किये गये data को सबसे पहले अपने पास store करती है! यह Main memory तक input Value को ले जाती है और उसकी Main memory में store कर सकती है तथा परिणाम दिखाने के लिए output device पर भी भेजती है!


Control Unit :- कंट्रोल यूनिट (Control Unit) कंप्‍यूटर में हो रहे सारे कार्यो नियंत्रित करता है और इनपुट, आउटपुट डिवाइसेज, और अर्थमेटीक लॉजिक यूनिट (Arithmetic Logic Unit ) के सारे गतिविधियों के बीच तालमेल बैठाता है।

Components of Computer part 1

Data & Information

सभी प्रकार के स्वीकृत तथ्य, निदृष्ट सिद्धांत, व्यक्ति, वस्तु, स्थानों इत्यादि के नाम उनसे जुड़े तथ्य, विवरण व आंकड़ों को डेटा कहा जा सकता है|
इन डेटा को कंप्यूटर द्वारा प्रोसेस कर एंड यूजर के लिए उपलब्ध करवाई जाने वाली उपयोगी जानकारियों को इनफार्मेशन (सुचना) कहते है|

कंप्यूटर डाटा को इनपुट के रूप में लेता है, और निर्देशों के अनुसार उस पर प्रोसेस करता है,और अंत में परिणाम (इनफार्मेशन )आउटपुट के रूप में देता है|


कंप्यूटर के घटक (Components of Computer)

1. कंप्यूटर हार्डवेयर(Computer Hardware)
2. कंप्यूटर सॉफ्टवेयर(Computer Software)


कंप्यूटर के वे भाग जिन्हें हम देख सकते है और स्पर्श कर सकते है अर्थात यान्त्रिक, विद्धुत और इलेट्रोनिक भाग कंप्यूटर हार्डवेयर के नाम से जाने जाते है|

1. इनपुट/आउटपुट यूनिट
2. सेन्ट्रल प्रोसेसिंग यूनिट
3. मेमोरी यूनिट

इनपुट/आउटपुट यूनिट
Input unit :- यह विभिन्न प्रकार की device से computer की memory में डाले गये data की इकाई होती है! जिन devices से कंप्यूटर में data डाला जाता है वे सभी Input device कहलाती है! ये device अलग-अलग उददेश्यों की पूर्ति के लिए computer में input भेजती है! Keyboard, Mouse, scanner, Light pen, camera आदि सभी input device कहलाती है!
Output unit :- CPU के द्वारा एक बार process किये गये data को अथवा Main memory में उपलब्ध परिणामो की इकाई को Output unit कहते है जिसे विभिन्न devices की सहायता से प्राप्त किया जा सकता है! जिन device से आपको Result मिलता है! वे सभी output devices कहलाती है! भिन्न-भिन्न जरुरतो को पूरा करने के लिए अलग-अलग output device का प्रयोग किया जाता है!Monitor, speaker, printer, Modem आदि सभी output device होती है!

Friday, 12 January 2018

Classification of Computer

कंप्यूटर का वर्गीकरण हम तीन चीजो के आधार पर करते है :-

1.आकार के आधार पर
2.उद्देश्य के आधार पर
3.अनुप्रयोग के आधार पर

आकार के आधार पर कंप्यूटर चार प्रकार के होते है :-

1.माइक्रो कंप्यूटर
2.मिनी कंप्यूटर
3.मेनफ्रेम कंप्यूटर
4.सुपर कंप्यूटर

1.माइक्रो कंप्यूटर :- ये कम्प्यूटर इतने छोटे होते हैं की इन्हें डेस्क पर सरलतापूर्वक रखा जा सकता है | इन्हें computer on a chip भी कहा जाता है | आधुनिक युग में माइक्रो कम्प्यूटर फोन के आकार , पुस्तक के आकार तथा घडी के आकार तक उपलब्ध है | इनकी क्षमता लगभग 1 लाख संक्रियाए प्रति सेकेण्ड होती हैं | इन कम्प्यूटरों का उपयोग मुख्यतः व्यवसाय तथा चिकित्सा के क्षेत्र में किया जाता है |
इसके उदाहरण है – IMAC, IBM, PS/2, APPLE MAC आदि |
माइक्रो कम्प्यूटर भी कई प्रकार के होते हैं :–
डेस्कटॉप कम्प्यूटर, लैपटॉप, पामटॉप, टैबलेट, पर्सनल डिजिटल असिस्टेंट (PDA), वर्कस्टेशन आदि|

2.मिनी कंप्यूटर :- सबसे पहला मिनी कंप्यूटर पीडीपी-८ (PDP-8) एक रेफ्रिजरेटर के आकर का था| जिसे डी.ई.सी. (DEC - Digital Equipment Corporation) ने 1965 में तैयार किया था। ये कम्प्यूटर माध्यम आकर के कंप्यूटर होत्ते है। ये कंप्यूटर माइक्रो कंप्यूटर की तुलना में अधिक कार्यक्षमता वाले होते है। मिनी कंप्यूटर की कीमत माइक्रो कंप्यूटर से अधिक होती है। इन कंप्यूटर पर एक साथ एक से अधिक व्यक्ति कार्य कर सकते है। मिनी कंप्यूटर्स में एक से अधिक C.P.U. होते है। इन कंप्यूटर्स के स्पीड माइक्रो कंप्यूटर से अधिक लेकिन मेनफ्रेम कंप्यूटर से कम होती है। माध्यम स्तर की कंपनियों में मिनी कंप्यूटर ही प्रयोग होते है। मिनी कंप्यूटर के उपयोग यातायात में यात्रियों के आरक्षण के लिए आरक्षण प्रणाली , बैंको में बैंकिंग के लिए , कर्मचारियों के वेतन के लिए पेरोल तैयार करना, वितीय खातों का रखरखाव रखना आदि।

3.मेनफ्रेम कंप्यूटर :- मेनफ्रेम कंप्यूटर आकर में बहुत छोटे होते है। तथा इनकी भण्डारण क्षमता भी अधिक होती है। इनमे अधिक मात्रा में बहुत ही तीव्र गति से डाटा को प्रेसेस करने की क्षमता होती है। इसलिए इनका प्रयोग बड़ी कंपनियों, बैंको , सरकरी विभागों में केंद्रीय कंप्यूटर के रूप में किया जाता है। ये कंप्यूटर 24 घंटे कार्य कर सकते है। इन कॉम्प्यूटेस पर सेकड़ो यूज़र्स एक साथ कार्य कर सकते है। मेनफ्रेम कंप्यूटर को एक नेटवर्क या माइक्रो कंप्यूटरो के साथ आपस में जोड़ा जा सकता है। इन कंप्यूटर्स का प्रयोग विभिन्न कार्यो की लिए किया जा सकता है। जैसे - उपभोग्ताओ द्वारा खरीद का ब्यौरा रखना, भुगतानों का ब्यौरा रखना , बिलो को भेजना ,नोटिस भेजना , कर्मचारियों का भुगतान करना , टेक्स का विस्तृत ब्यौरा रखना आदि। इसके उदहारण हैं- IBM 4381, ICL39 Series  और CDC Cyber Series.

4.सुपर कंप्यूटर :- सुपर कम्प्यूटर सर्वाधिक गति, संग्रह क्षमता, एवं उच्च विस्तार वाले होते हैं | इनका आकार एक सामान्य कमरे के बराबर होता है | विश्व का प्रथम सुपर कम्पुटर ‘क्रे रिसर्च कम्पनी ‘ द्वारा 1976 में विकसित CRAY-1 था | भारत के पास भी एक सुपर कम्प्यूटर है जिसका नाम परम (PARAM)है, इसका विकास C-DAC ने किया है| इसका विकसित रूप PARAM-10000 भी तैयार कर लिया गया है | सुपर कम्प्यूटर का मुख्य उपयोग मौसम की भविष्यवाणी करने, एनिमेशन तथा चलचित्र का निर्माण करने , अन्तरिक्ष यात्रा के लिए अन्तरिक्ष यात्रियों को अन्तरिक्ष में भेजने, बड़ी वैज्ञानिक और शोध प्रयोशाला में शोध व खोज करने इत्यादि कार्यों में किया जाता है | इसके उदहारण हैं- PARAM, PARAM-10000, CRAY-1, CRAY-2, NEC-500 आदि |

2.उद्देश्य के आधार पर कंप्यूटर दो प्रकार के होते है :-

1.सामान्य उद्देश्य कंप्यूटर
2.विशिष्ट उद्देश्य कंप्यूटर

1.सामान्य उद्देश्य कंप्यूटर :- इन कंप्यूटर्स में अनेक प्रकार के कार्य करने की क्षमता होती है लेकिन ये सभी कार्य सामान्य होते है किसी विशेष प्रकार के नहीं होते है। जैसे वर्ड प्रोसेसिंग से (Word Processing) लेटर लिखना। Document तैयार करना। दस्तावेजो को छापना , डाटाबेस बनाना। इन कंप्यूटर में हम किसी विशिष्ट उद्देश्य के लिए कोई स्पेशल डिवाइस नहीं जोड़ सकते है। क्योकि इन की C.P.U. की कार्यक्षमता बहुत कम होती है।  इसलिए इन्हें केवल सामान्य उद्देश्य के लिए ही उपयोग किया जा सकता है।

2.विशिष्ट उद्देश्य कंप्यूटर :- इन कम्प्यूटर को किसी विशेष कार्य के लिए बनाया जाता है इन कंप्यूटर के C.P.U. की क्षमता उस उस कार्य के अनुरूप होती है, जिस कार्य के लिए इस कंप्यूटर को बनाया जाता है। अगर इन कंप्यूटर एक से ज्यादा C.P.U. की आवश्यकता होती है, तो इन कंप्यूटर की रचना अनेक C.P.U. वाली कर दी जाती है। जैसे - संगीत संपादन करने के लिए स्टूडियो में लगाया जाने वाला कंप्यूटर विशिष्ट प्रकार का कंप्यूटर होता है। इस कंप्यूटर में संगीत से सम्बंधित उपकरणों को जोड़ा जा सकता है।
इसके आलावा इन कंप्यूटर का प्रयोग अनेक क्षेत्रो में किया जाता है जैसे - अंतरिक्ष विज्ञानं ,मौसम विज्ञानं ,युद्ध के क्षेत्र , उपग्रह संचालन में ,चिकित्सा के क्षेत्र में, भौतिक रसायन में , यातायात नियंत्रण में , कृषि विज्ञानं में , इंजीनरिंग आदि क्षेत्रो में इन कंप्यूटर का प्रयोग किया जाता है।

3.अनुप्रयोग के आधार पर कंप्यूटर तीन प्रकार के होते है :-


1.एनालॉग कंप्यूटर
2.डिजिटल कंप्यूटर
3.हाइब्रिड कंप्यूटर

1.एनालॉग कंप्यूटर :- भौतिक मात्राओं जैसे- दाब, तापमान, लम्बाई, इत्यादि को मापकर उनके परिणामो को अंको में प्रस्तुत करने के लिए एनालोग कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है क्योंकि ये कम्प्यूटर मात्राओं को अंकों में प्रस्तुत करते हैं,| ये कंप्यूटर किसी भी राशि का मापन तुलना के आधार पर करते है। इसलिए इनका उपयोग विज्ञान और इंजीनियरिंग क्षेत्र में अधिक किया जाता है | इसके उदाहरण है – स्पीडोमीटर, भूकंप सूचक यंत्र आदि |

2.डिजिटल कंप्यूटर :- अंकों की गणना करने के लिए डिजिटल कम्प्यूटर का उपयोग किया जाता है | आधुनिक युग में प्रयुक्त अधिकतर कम्प्यूटर डिजिटल कम्प्यूटर की श्रेणी में ही आते हैं | ये इनपुट किये गये डेटा और प्रोग्राम्स को 0 और 1 में परिवर्तित करके इन्हें इलेक्ट्रानिक रूप में प्रस्तुत करते हैं | डिजिटल कम्प्यूटर का उपयोग व्यापार में, घर के बजट, एनीमेशन के क्षेत्र में विस्तृत रूप से किया जाता है | इसके उदाहरण है– डेस्कटॉप, लैपटॉप आदि |

3.हाइब्रिड कंप्यूटर :-
हाइब्रिड कम्प्यूटर उन कम्प्यूटरों को कहा जाता है, जिसमे एनालोग और डिजिटल दोनों ही कम्प्यूटर के गुण होते हैं | इसके द्वारा भौतिक मात्राओं को अंकों में परिवर्तित करके उसे डिजिटल रूप में ले आते हैं | चिकित्सा के क्षेत्र में इसका उपयोग सर्वाधिक होता है | उदहारण – ECG और DIALYSIS मशीन |